यूँ  ही  चलते  चलते  मै  भूल  जाता हूँ

कहाँ  जाना, किसे  पाना  बस  यादें  तेरी  बटोर  मै  लाता  हूँ

तुम्हें  चाहता  कि  चारों  ओर  तुम्हें  मै  पाता  हूँ

पास  जाकर  न  होने  पे  तेरे,  खुद  को  पागल  बताता  हूँ

मेरी  ये  ख़ामोशी  सबको  सुनाता  हूँ

हर  कोशिश  मे  सुनते  सब  है…फिर  भी  खुद  को  अकेला  मै  पाता  हूँ

तुम  होती  हो  साथ  तो  सिहर  सा  जाता  हूँ

रुक  जा, ठहर  जा  वक़्त  से  मनाता  हूँ

तुम्हें  न  याद  करना,  तुम्हें  न  प्यार  करना  खुद  को  सिखाता  हूँ

लेकिन  फिर  

यूँ  ही  चलते  चलते  मै  भूल  जाता  हूँ

कहाँ  जाना, किसे  पाना  बस  यादें  तेरी  बटोर  मै  लाता  हूँ….

                                                                                                                                                                                                  -ऐश्वर्य