अक्सर ..आँखे मूँद कर सपने बुनते है हम

आँखें  खुलते  एक-एक  कर  चुनते  है  हम
कुछ  बटोर  लिया, कुछ  फ़िजूल  गए
सपनों  को  सपना  समझ  हम  भूल  गए…

हवाओं  की  गुनगुनाहट  कानों  को  छूतीं  गुजर  जा  रही  है
दुनिया  को  देखने  की  फुरसत  क्षितिज  तक  जा  कर  ठहर  जा  रही  है
हर  मौसम  हर  मंज़र  को  समेटने  में  ये  ज़िन्दगी  बिखर  जा  रही  है
न  खोया  कुछ  था, न  टूटा  कुछ  आज  है
बस  कोने  में  दिल  के  एक  खनखनाती  आवाज़  है
क्या  खोया  क्या  पाया  जिंदगी  हिसाब  माँग  रही  है
मुझसे  लड़ने  के  बाद  ये  दुनिया  सफ़ेद  लिबाज  माँग  रही  है…

वैसे  सफ़ेदी  किसको  पसन्द  नहीं
लेकिन  महज़  कोरे  को  चाहता  कौन  है
औकात  कागज़  की  तो  दवात  तय  करता  है
तो  सफ़ेद  कब , रंगीन  कब  हमें  बताता  कौन  है
हालाँकि….न  आँखें  नम  कल  थी , न  रोया  मै  आज  था
बस  कोने  में  कहीं  दिल  के  एक  उफनता  शैलाब  था
कुछ  तलाश  रहा  था  मन  में
शायद  चाहतों  के  भीड़  में  धुँधला  सा  ख्वाब  था

ख़ैर…अभी  तो  कितनी  बातें  बाकी  है
ख़ुद  से  ख़ुद  की  कई  मुलाकातें  बाकी  है
आँखें  मूँदना, सपने  बुनना
आँखें  खुलते, एक-एक  कर  चुनना  बाकी  है
फिर  से…कुछ  बटोर  लूँगा, कुछ  फ़िजूल  जायेंगे
एक  बार  फिर…
सपनों  को  सपना  समझ  हम  भूल  जायेंगे ||

 

                                         -ऐश्वर्य