आँखें  सूखी  थी, मन  रोता  रहा

किस्मत  भूखी, मैं  सोता  रहा

मन  तो  उठने  को  कहता  रहा, जरूर  आलस्य  ताकतवर  होगा  

सोच  रहा  था  मैं

क्षण  दो  बाद  उठूँ, फिर  भी  पैरों  तले  ज़मीन  सिर  पे  अम्बर  होगा

आँखें   खुली  तो  देखा  एक  पहर  बीत  चुका  था 

चलना  शुरू  किया  तो  देखा  एक  शहर  बीत  चुका  था

सुबह  का  निशान  भी  कहीं  दिख  न  रहा  था 

वक़्त  को  भी  ढूँढा  कहीं  बिक  न  रहा  था 

 

एक  बार  फिर  सोच  रहा  था  मैं

आलस्य  भी  प्यारा  है , मंजिल  भी  प्यारी  है

कुछ  वक़्त  तो  ही  बीता  है , बाकी  ज़िन्दगी  सारी  है 

यूँ  ही  दिन , महीने , साल  बदलता  गया

मंजिल  कमज़ोर  पड़ती  गयी , आलस्य  मचलता  गया  

कल  तक  जो  सबकुछ  आसान  कर  रहा  था

आज  सबसे  ज्यादा  परेशान  कर  रहा  था

ख़ुद  से  ख़ुद  कि  लड़ाई  बिन  साहिल  हो  गयी  थी

इच्छाएँ  भी  सोते – सोते  काहिल  हो  गयी  थी 

खुद  को  कितना  झकझोरा , कितना  जगाया

न  इस  बार  रोया , न  ही  पछताया

घुटनों  पर  जीने  से  बेहतर  पैरों  पर  मरना  लगने  लगा  

सोने  से  बेहतर  खुद  के  लिए  कुछ  करना  लगने  लगा

 

सोचा  इस  बार

आलस्य  भी  प्यारा  है , मंजिल  भी  प्यारी है

एक  को  तो  मौका  दिया  अब  मंज़िल  कि  बारी  है ||

 

   – ऐश्वर्य