हम सब कभी न कभी अपनी व्यस्त जिंदगी से दूर भाग कर किसी ऐसी जगह जाना चाहते हैं, जहाँ हमें शांति मिले। और अगर आप कोई नई जगह घुमना चाहते हैं तो कहीं दूर जाने कि ज़रूरत नहीं, हज़ारीबाग आ जाइए। झारखंड राज्य में बसा हज़ारीबाग कोई अधिक मशहूर जगह नहीं है, लेकिन वहाँ के वातावरण में जो शांति है वह आपका मन हर लेगी। आप चाहें तो पूरा इंटरनेट छान मार सकते हैं पर जिन जगहों के बारे मैं आपको बताऊँगा वो आपको कहीं नहीं मिलेगी। प्रकृति से नज़दीक इस शहर में आमतौर पर ठंड इतनी ज्यादा रहती है कि पूरा शहर रात 8 बजे तक हीं सुनसान हो जाता है। अब प्राकृतिक सुंदरता का और आनंद उठाने के लिए मुख्य शहर से 20 कि.मी दूर, ताज़ी हवा खाते हुए और सुंदर घाटियों कों पार करते हुए बड़कागाँव पहुँच जाँए।

images                                            download

पहाड़ो कि श्रृंखला और हरे-भरे खेतों से घिरी यह जगह भी मन मोंह लेती है। अब कोई भी स्थानीय व्यक्ति आपको रानी दा और बरसों पानी के बारे में बता देगा, जहाँ आपको जाना है। रानी दा पहाड़ों के ऊपर स्थित एक गुफा मंदिर है, जिसका हमारे घुमने से कोई मतलब नही। तो फिर आप उतने ऊँचे पहाड़ों पर क्यो चढेंगे?

आप चढ़ेंगे मंदिर के पास 300 फुट कि ऊँचाई से बहते झरनें के लिए जिसे देखकर आपका रोम-रोम रोमांचित हो उठेगा। वहाँ आप सुरक्षित स्नान का लुत्फ उठा सकते हैं। दूसरी जगह बरसों पानी एक चमत्कारिक जगह है, जिसको अबतक वैग्यानिक भी नही समझ पाए हैं। चट्टानों से रिसते पानी के पास जाकर आप जितनी जोर से ताली मारेंगे उतनी ही ज्यादा पानी वहाँ से बहेगी।

बड़कागाँव सिर्फ प्राकृतिक सुंदरता ही नहीं बल्कि कई खनिजों से भी भरपूर है। यहाँ प्राकृतिक गैस और कोयले के भंडार को भी चिन्हित किया गया है। यहाँ के लोग भी इस जगह कि तरह ही अच्छे हैं, जो खेती-बाड़ी करके अपनी जिंदगी संतुष्टि से गुजारते हैं। एक बार यहाँ आने के बाद आप वापस नहीं जाना चाहेंगे। और घुमने के लिए आप हज़ारीबाग नेशनल पार्क जा सकते जो काफी मशहूर है। और अगर आपको बाइक चलाना पसंद है, तो आप मेरी तरह रात को नेशनल हाईवे पर सैर के लिए ज़रूर निकले। हज़ारीबाग अपने कई व्यंजन के लिए भी मशहूर है। समोसे, कचौड़ियॉ और चाय से लेकर आप चाट, कबाब पराठा, पाया, टीका, बगेरी(एक तरह की चिड़िया)झोर के स्वाद का आनंद उठा सकते हैं। आशा है कि आप भी इस छुपे हुए स्वर्ग को तलाशने ज़रूर निकलेंगे।