मैं राही उस रास्ते का…

मैं  राही  उस  रास्ते  का  जो  मंजिल  तक  ले  जाती  है
मैं  अजनबी  उस  महफ़िल  का  जो  मंजिल  भूला  जाती  है
चलते – चलते  मैं  थकता  नही
ज़ख्म  जो  नासुर  हुआ , दूसरों  को  छोड़ो  मुझे  भी  दिखता  नही 
कितने  मोड़  आये , न  जाने  कितने  पड़ाव
मैं बर्तन का पानी हो गया , कहीं छूट गया लहरों सा बहाव
जो  राही  नहीं  इस  राह  के
अफ़सोस  करते  इसकी  चाह  में
कह  दूँ  उनसे
ये  वक़्त  बड़ा  बेईमान  है , या  फिर  मंजिल  की  चालाकी  है
क्यूँकि  हर  मंजिल  कहती  है , मंजिल  अभी  बाकी  है …

मैं  राही  उस  रास्ते  का  जो  मंजिल  तक  ले  जाती  है
मैं  अजनबी  उस  महफ़िल  का  जो  मंजिल  भूला  जाती  है
लाखों  है  नियम  किस – किस  को  निभाओगे
किसी  एक  को  भी  तोड़ा , आवारा  कहलाओगे
फ़र्क  नहीं  पड़ता  क्या  दुनिया  कहती  रही
कभी  मौक़ा  न  दिया , हर  बार  तो  कुचलती  रही
हर  किसी  को  चाही  चीज़  मिलती  नहीं
वक़्त  भी  हर  ज़ख्म  सिलती  नहीं
कहा  न
ये  वक़्त  बड़ा  बेईमान  है , या  फिर  ज़िन्दगी  की  चालाकी  है
क़त्ल  तो  कब  का  कर  चुकी , मौत  अभी  बाकी  है …

                                                                                                                      -ऐश्वर्य

Recent Posts